प्राइवेट स्कूलों में मनमानी फीस बढ़ोतरी पर कोई ठोस कदम उठाकर रोकथाम की जाए

झारखंड सरकार की पहल पर जिला जनसंपर्क कार्यालय बोकारो की ओर से लोगों को शिकायत निवारण हेतु सुविधा पहुंचाने के उद्देश्य से प्रत्येक बुधवार को अलग-अलग विभागों के पदाधिकारियों के साथ लोगों को सीधा संवाद के लिए टेली कॉन्फ्रेंसिंग का आयोजन किया जाता है। इसी के तहत बुधवार 07.07.2019 को जिला शिक्षा पदाधिकारी श्रीमती नीलम आईलीन टोप्पो के द्वारा समय 11:00 से 1ः00 बजे तक टेली कॉन्फ्रेंसिंग का आयोजन किया गया जिसमें लोगों ने शिक्षा संबंधी समस्याओं व समाधान को लेकर टेलीफोन के माध्यम से अपनी बात रखें।जिसमें से वार्ता के खा़स अंग इस प्रकार है।

अविनाश कुमार – प्राइवेट स्कूलों में मनमानी फीस की बढ़ोतरी को लेकर कोई ठोस कदम उठाकर रोकथाम किया जाए। हम अभिभावक काफी परेशान है।
नीलम आईलीन टोप्पो – विभागीय स्तर से निर्देशानुसार जिला में अवस्थित निजी विद्यालयों के समस्याओं एवं समाधान हेतु जिला स्तरीय समिति का गठन प्रक्रियाधीन है। उक्त समिति में सदस्यों के रूप में अभिभावक भी हैं। अतः समस्याओं के समाधान हेतु विचार-विमर्श कर समस्याओं के निदान हेतु ठोस कदम उठाया जाएगा।

रमेश स्वर्णकार – प्राथमिक स्कूल है जिसमें मात्र दो ही शिक्षक है जिसके कारण बच्चों को पढ़ाई में काफी दिखाते आ रही है शिक्षक की बढ़ोतरी की जाए।
नीलम आईलीन टोप्पो – प्राथमिक विद्यालय होने के कारण दो सरकारी शिक्षक का पद स्वीकृत है। शिक्षकों की कमी है तो पारा शिक्षकों के माध्यम से भी विद्यालय का संचालन किया जायेगा। हो सकता है, फिर भी अधिक छात्र अनुपात में शिक्षकों की आवश्यकता होगी तो शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति पर विचार किया जाएगा।

चुरामन कुमार – एसएमडीसी की बैठक नहीं हो रही है। बैठक कराईजाए, स्थापना अनुमति प्राप्त नर्रा के विद्यालय में एसएमसी की बैठक नहीं हो रही है।
नीलम आईलीन टोप्पो – स्थापना अनुमति प्राप्त विद्यालयों के शांतिपूर्ण संपूर्ण प्रशासनिक एवं प्रबंधन व्यवस्था विद्यालयों में गठित शासी निकाय के माध्यम से होनी है। इस संबंध में विद्यालय को निर्देशित किया जाएगा।

कुंदन कुमार – मध्य विद्यालय महाल में जमीन उपलब्ध होने के बाद भी वर्ग कक्षा का अभाव है विद्यालय में उक्त कार्य हेतु राशि आवंटित था परंतु कार्य नहीं हुआ।
नीलम आईलीन टोप्पो- विद्यालय में भूमि विवाद के कारण कार्य लंबित था। परंतु वर्तमान में भूमि प्राप्त हो चुकी है, अतः लंबित कार्य शीघ्र पूरी कराया जाएगा।

शिव शंकर नायक- दातु उच्च विद्य़ालय में शिक्षकों का आभाव क्यो है?
नीलम आईलीन टोप्पो- वर्ष 2018 में स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षकों की बहाली के उपरान्त विद्यालयों में शिक्षकों का पद स्थापन किया गया है। मगर दातु उच्च विद्यालय में विज्ञान विषय को पढ़ने वाले बच्चों की संख्या कम होने के कारण एक शिक्षक का पदस्थापन किया गया है। संस्कृत शिक्षक की अनुससा जिला से अप्राप्त होने के कारण शिक्षक नही है। आपके विद्यालय में विज्ञान क्षिक्षकों की संख्या कम है।

Related News